Types of Computer-कंप्युटर के विभिन्न प्रकार की पूरी जानकारी हिन्दी में

Last Updated on

आज कल सभी सरकारी और गैर सरकारी नोकरियों के लिए Computer basics का knowledge अनिवार्य हो गया है । अगर आप एक कंप्युटर student हो तो आपको Types of computer का ज्ञान सबसे पहले होना चाहिए। सभी competitive examination में इसी से related प्रश्न ही पूछे जाते हैं।

types of computer in hindi

Computer शब्द Latin भाषा के ‘compute’ शब्द से बना है जिसका अर्थ है-गणना करना। पुराने समय में कंप्युटर का प्रयोग केवल गणना करने के लिए किया जाता था।

कंप्युटर एक ऐसा Electronic device है जो user के input किये गए डाटा को process करके output मे result को दिखाता है।  ये एक ऐसी मशीन है जो यूजर द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करती है।

Computer को सबसे पहले “CHARLES BABAGE” नाम के एक British mathematician (गणितज्ञ) ने बनाया था।  Charles babage ने 1832 में “Analog computer” का आविष्कार किया था.  इसके बाद Harvard university के Professor “HYWARD AKIN” ने एक Mechanical Computer बनाया था. इसके बाद में Digital computer आविष्कार हुआ जो Mechanical Computer से 200 गुना तेज था।

आज कल हर जगह सिर्फ कंप्युटर का काम ही रह गया है। हम कल्पना भी नहीं कर सकते कि  यदि हमारे दैनिक जीवन से कंप्युटर को हटा दिया जाए तो क्या होगा?मान लो किसी बैंक से यदि कहा जाए कि वो आज के बाद बिना कंप्युटर काम करेगा तो सोचिए एक छोटे- से-छोटे काम को करने मे कितने दिन लगेंगे।

आगे हम बात करेंगे types of  computer के बारे में कि  कंप्युटर कितने प्रकार के होते हैं और इनका प्रयोग कहाँ-कहाँ होता है?

Types of Computer-कंप्युटर कितने प्रकार के होते हैं?

    1. Micro Computer
    2. Mini Computer
    3. Mainframe Computer
    4. Super Computer
    5. Embedded Computer

1. Micro Computer–

इस प्रकार के कंप्युटर का आरंभ 1970 से शुरू हुआ था। ये आकार में बहुत छोटे होते हैं। इनको एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाना बहुत ही आसान है। Micro Computer को personal computer के नाम से भी जाना जाता है।

Micro Computer के CPU में Random Access Memory (RAM), Read Only Memory (ROM) , Input/Output (I / O) Port, Interconnecting Wire और एक Motherboard शामिल होता हैं।

2. Mini Computer-

एक Minicomputer में एक बड़े कंप्यूटर की अधिकांश विशेषताएं और क्षमताएं होती हैं, लेकिन Size में छोटा होता है।इसका आकार माइक्रो कंप्युटर से बड़ा होता है। इनको Mid Computer के नाम से भी जाना जय है।

Minicomputers में एक या अधिक प्रोसेसर हो सकते हैं। ये Multitasking और Processing का समर्थन कर सकते हैं, और आमतौर पर High Workload के लिए होते हैं। यद्यपि वे Main frame या Super Computer से छोटे हैं।

Must Read:-

Aadhar Card Update और Correction कैसे करें
Facebook phone Number Change Kaise Kre

Minicomputers का उपयोग मुख्यतः छोटे या Midrange के सर्वरों के रूप में किया जाता है जो Business और Scientific Research का संचालन करते हैं। एक साथ कई यूजर इसका प्रयोग कर सकते है यानि ये multiuser होते है।

3. Mainframe Computer-

ये computers आकार मे बहुत बड़े होते हैं। Mainframe computer को आम तौर पर अपने बड़े Size, Amount of storage, processing power और High Level की विश्वसनीयता के लिए जाना जाता है। लगभग सभी Mainframe में कई ऑपरेटिंग सिस्टम चलाने (या होस्ट) करने की क्षमता है।

Without USB Data Transfer:Android mobile se computer me kese kre

ये मुख्य रूप से mission-critical applications के लिए बड़े-बड़े Organizations द्वारा उपयोग किए जाते हैं, जहां पर Data Processing के लिए High Volume की आवश्यकता होती है।इन computers में दो या दो से अधिक CPUलगे होते है जिसके कारण इनकी कीमत बहुत ज्यादा होती है।

4. Super computer-

Super computer सबसे तेज performing system है। सुपर कंप्यूटर का इस्तेमाल weather forecast, resource exploration, cryptanalysis, space exploration जैसे बड़े बड़े कामो के लिए किया जाता है। ये साइज़ मे बहुत बड़ा होता है। ये किसी खास उद्देश्य के लिए प्रयोग किये जाते हैं। इस प्रकार के कंप्युटर एक सेकंड मे अरबों गणनाएं करने मे सक्षम होते हैं।

Web development सीखने के लिए 4 Best Websites-हिंदी में

इनकी processing speed बहुत ज्यादा होती है जिसके कारण ये गरम भी बहुत होते हैं यानि heat ज्यादा लेते है। इनके लिए freeze जैसी cooling या air conditioner की जरूरत पड़ती है। भारत का पहला सुपर कंप्यूटर 1991 मे release हुआ था जिसको ‘PARAM 8000’ के नाम से जाना जाता है।

5. Embedded Computer

Embedded Computer वो होता है जिसको कुछ विशेष कार्य के किये बनाया जाता है। ये आम कंप्युटर से अलग होता है। इसमें एक normal कंप्युटर की तरह नए program नहीं डाल सकते। इस प्रकार के कंप्युटर सिर्फ वही काम करते हैं जिनके के लिए इनको बनाया जाता है।
इनमें एक embedded सिस्टम होता है जो mechanical और electrical के अंदर एक dedicated कार्य करने के लिए बनाया जाता है। इसका सारा काम real time computing के साथ होता है मतलब ये साथ की साथ गणना करता रहता है।

Embedded computer के उदाहरण
हमारे घरों मे प्रयोग होने वाले कुछ आधुनिक उपकरण जैसे-washing machine ,MP3 player ,video game सभी embedded सिस्टम के उदाहरण है। इनमें डिजिटल control होता है।

ATM-Automatic Teller Machine
आप सभी लोग ATM के बारें मे तो जानते ही हैं। ये भी एक embedded computer का सबसे best उदाहरण है। ATM एक electronic device होता है जो ग्राहकों को cash निकालने , cash transfer या account balance को check करने के काम आती है। जैसे ही कोई ग्राहक अपना card इस मशीन मे डालता है ये active हो जाती है। जब कोई ग्राहक अपना password डालता है तो इस मशीन का control central computer मे transfer हो जाता है। उसके बाद user मशीन से withdraw या balance को चेक कर सकता है।

इस article में मैंने आपको Types of Computer के बारे बताया है। ये बहुत ही काम की जानकारी है जो हर student को याद रखनी चाहिए। अगले कुछ समय तक मैं आपको computer basics के बारे मे ही बताऊँगा ताकि कंप्युटर से रिलेटेड आपके सारे सवालों के जवाब मिल सके।

Add a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *